blogid : 12847 postid : 90

क्या इन्हें मिलेगी सजा !!

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारत की राजनीति और उसमें हुए घोटालों की अगर सूची बनाई जाए तो काफी समय लगेगा और काफी लम्बी बन जाएगी जिसे याद रखना और समय-समय पर उसकी व्याख्या करना एक मुश्किल काम है. स्थितिओं पर अगर नजर डालें तो रोज ही किसी ना किसी घोटाले की खबर आपके पास पहुंच जाएगी. अब इसके पीछे क्या कारण हो सकते हैं या तो हमारी सरकारी व्यवस्था नाकामयाब है इसे रोक पाने में या तो सरकारी व्यवस्था ही सबसे ज्यादा भ्रष्ट है. इस बात का पता लगाने के लिए जिस आयोग का गठन होना था उस पर कोई आम सहमति नहीं बन पाई और पूरे मामले को दरकिनार कर दिया गया. भ्रष्टाचार को रोकने के लिए किए गए सारे तरीके जहां नाकाम हो रहे हैं वहीं इस प्रकार की घटनाओं का एक मजबूत तरीके से सामने आना देश को शर्मशार करता है.



Read:यह शहर नहीं हैवानों की बस्ती है



मुख्यमंत्री पर कारवाई: हम तो बात करते हैं सरकारी तंत्र की और सरकारी दफ्तरों की पर यहां तो सारा मामला ही उलटा है. यहां राज्य का पूर्व मुख्यमंत्री ही भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार होने वाला है तो आप समझ ही गए होंगे कि राज्य की हालत कैसी होगी!! दिल्ली की एक अदालत ने तीन हजार से अधिक शिक्षकों की अवैध भर्ती के मामले में हरियाणा के मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला को दोषी करार किया है. इसमें उनके साथ उनके सुपुत्र अजय चौटाला पर भी जेबीटी में शिक्षक की भर्ती में गड़बड़ी के आरोप लगाए गए हैं और इस पूरे मामले में उन्हें दोषी पाया गया है. मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला और उनके बेटे अजय चौटला के अलावा इस पूरे मामले में 54 लोगों को दोषी माना गया है और उन पर कार्यवाही हो रही है और इन सभी के बारे में सजा का एलान 22 जनवरी के बाद किया जाएगा. चलिए साहब इस बार भी देख लेते हैं कैसी सजा मिलती है एक सियासत वाले को घोटाले की. पहले भी बहुत बार देखा है कि जिन पर आरोप लगे उन्हें बाद में सरकारी सम्मान से सम्मानित किया गया.




Read:चुपचाप समाज सेवा करो



क्या ऐसा पहली बार हुआ है?: क्या ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी मंत्री के ऊपर आरोप लगे हों? नहीं ऐसा तो कई बार हो चुका है पर पुराने आंकड़ों को देखें तो यह पता लगेगा कि उनमें से दोषी कितनों को बनाया गया है और सजा कितनों को मिली है. सजा सुना देना भले ही आसान है पर उसे क्रियाशील करना शायद भारत में बहुत बड़ी बात है जो कभी भी होता हुआ नहीं दिखता है. खैर अभी तक तो यह राहत की बात है कि अदालत का फैसला आने तक मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला, उनके पुत्र अजय चौटाला के साथ अन्य को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. आशा तो हमेशा ही जनता की यह रहती है कि आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए पर यहां ऐसा होता नहीं है. अब देखने वाली बात यह होगी कि इस मामले में क्या होता है? क्या इनके ऊपर भी उन्हीं राजनेताओं की तरह कार्यवाही होगी जैसी कि होती आई है या मीडिया के बढ़ते प्रभाव से इस मामले में कुछ अलग होगा.



Read:चित्रांगदा को ही बोल्ड सीन के लिए क्यों चुना ?



मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला हरियाणा के सक्रिय राजनेता हैं जो रुढ़िवाद को आज तक अपनी राजनीति में एक खास हिस्सा देते आए हैं और खाप पंचायतों का समर्थन करते आए हैं. इसलिए यह समझना ज्यादा मुश्किल नहीं होगा कि उन्हें कितना जन समर्थन हासिल होगा. फिर भी आम आदमी की सोच और देश की हालत को बदलने के लिए आरोप के अनुसार सजा का निर्धारण होना ही चाहिए.

Read More:

ये हैं पाकिस्तान के “अन्ना हजारे”!!

कितने वर्षों में कितनी बार

हर लड़की शादी से पहले सेक्स नहीं करती




Tags:Former Haryana Chief Minister Om Prakash Chautala, his son Ajay Chautala, teacher scam, illegal recruitment case, Indian National Lok Dal, ओमप्रकाश चौटाला, गिरफ्तार.



Post Your Comment:



Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

सारांश के द्वारा
January 18, 2013

देखने वाली बात यह होगी कि इस मामले में क्या होता है.

दीपक के द्वारा
January 18, 2013

ऐसे लोगों को सजा मिलनी ही चाहिए….


topic of the week



latest from jagran